मृतका के पिता की तहरीर पर सपा ब्लाक प्रमुख सहित पांच के खिलाफ मुकदमा दर्ज

हमीरपुर 23 मई 2020 सदर कोतवाली क्षेत्र के बड़ागांव में 19 मई से लापता युवती की जंगल में सड़ी-गली लाश कल 22 मई को मिली थी। पुलिस ने इस मामले के मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर सात घंटे में ही घटना का खुलासा करने का दावा किया था। लेकिन मृतका के पिता की तहरीर के आधार पर देर रात सुमेरपुर के सपा ब्लाक प्रमुख, उसके प्रधान प्रतिनिधि भाई सहित पांच लोगों के खिलाफ हत्या और सबूत छिपाने की एफआईआर दर्ज की गई है। पुलिस ब्लाक प्रमुख सहित चार आरोपियों की तलाश में हैं। 
 देर शाम मृतका के पिता हरदौल ने जो तहरीर दी। उससे घटना में नया मोड़ आ गया। 【मृतका के पिता का आरोप है कि इस घटना को सुमेरपुर ब्लाक प्रमुख जयनारायण सिंह यादव, उसका भाई प्रधान प्रतिनिधि राजनारायण यादव, मौसेरा भाई शिवनारायण और अटल, अतुल पुत्रगण अजय सिंह ने मिलकर इस घटना को अंजाम दिया है। घटना वाले दिन सभी लोग ट्यूबबेल में मौजूद थे। उसके पुत्र दीनानाथ ने इन सभी लोगों को वहां देखा भी था। दोपहर में दीनानाथ और ललिता दोनों वनवासी कुटी में थे। दोनों ने साथ में खाना खाया। दिन के 2 बजे ललिता अपने भाई से घर जाने की बात कहकर वहां से चल दी थी। लेकिन घर नहीं पहुंची थी। शाम को दीनानाथ के घर पहुंचने पर ललिता के गायब होने की जानकारी हुई। पिता की तहरीर पर पुलिस ने देर रात ब्लाक प्रमुख सहित पांचों आरोपियों के खिलाफ हत्या व सबूत छिपाने की एफआईआर दर्ज कर ली है। अभी सिर्फ अतुल की गिरफ्तारी हुई है। शेष आरोपियों की तलाश की जा रही है।
 ब्लाक प्रमुख ने पुलिस अधिकारियों को गांव से बाहर होने के मुहैया कराये सबूत
- राजनैतिक द्वेष में फंसाने का लगाया आरोप
सुमेरपुर- हमीरपुर। सदर कोतवाली के बड़ागांव में हुयी युवती की हत्या में नामजद सपा के ब्लाक प्रमुख ने पुलिस के उच्चाधिकारियों को घटना के दिन भाई सहित गांव से बाहर होने के पुख्ता साक्ष्य भेजकर अपने आप को निर्दोष बताते हुये राजनैतिक द्वेष भावना के चलते निष्पक्ष जांच की मांग उठायी है। समाजवादी पार्टी के नेता मौजूदा ब्लाक प्रमुख जयनारायण सिंह यादव सदर कोतवाली के बड़ागांव निवासी है। इनके नलकूप के समीप अपने खेत में बनी झोपड़ी में रहने वाले गांव के युवक अतुल सिंह ने गत 19 मई को गांव निवासी हरदौल निषाद की पुत्री ललिता 20 वर्ष की दुपट्टे से गला घोंटकर हत्या कर दी थी। इस घटना को ब्लाक प्रमुख के नलकूप के समीप अंजाम दिया गया था। हत्यारोपी ने अपना जुर्म भी स्वीकार किया है। इसके बाद पुलिस ने मृतका के पिता की तहरीर पर ब्लाक प्रमुख जयनारायण सिंह यादव, भाई राजनारायण सिंह यादव, मौसेरे भाई शिवनारायण सिंह यादव आदि को नामजद कर लिया है। हत्या जैसे अपराध में पुलिस के द्वारा नामजद किये जाने के बाद ब्लाक प्रमुख जयनारायण सिंह यादव ने अपने साथ भाई राजनारायण सिंह यादव, मौसेरे भाई शिवनारायण सिंह यादव के 18 से 20 मई की शाम तक गांव के बाहर होने के पुख्ता साक्ष्य पुलिस के आला अधिकारियों को भेजकर गलत ढंग से फंसाने का आरोप लगाया है। ब्लाक प्रमुख ने अधिकारियों से निष्पक्ष जांच की मांग की है। ब्लाक प्रमुख ने कहा है कि न्याय न मिलने पर साक्ष्यों के आधार के साथ अदालत का दरवाजा खटखटायेंगे। उन्होनें कहा कि उन्हे राजनैतिक प्रतिद्वंता के कारण परिवार सहित निर्दोष ढंग से फंसाया गया है। इसकी शिकायत वह प्रमुख सचिव, प्रमुख सचिव ग्रह एवं डीजीपी से भी करेंगे।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,