मुख्यसचिव की आदेश के विपरीत कार्यमुक्ति आदेश पर भडक़ी परिषद

कार्यवाहक एमडी सेतु निगम के खिलाफ मुख्य सचिव को लिखित शिकायत

लखनऊ, 15 मई 2020। प्रदेश के मुख्य सचिव ने देश एवं प्रदेश में लाॅकडाउन चलते 12 मई को आदेश जारी किया कि वर्तमान  स्थानन्तरण सत्र 2020-21 में कोविड 19 महामारी के मद्देनजर आग्रिम आदेशों तक सभी प्रकार के स्थानान्तरण पर तत्काल प्रभाव से रोक रहेगी। परन्तु ठीक इसके  दूसरे दिन 13 मई 2020 को मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश शासन के आदेशों को धता बताते हुए सेतु निगम प्रबंधन द्वारा रामबाबू दिवाकर सहायक अभियंता को अपनी योगदान आख्या देने हेतु गोरखपुर भेजने का कार्यमुक्ति दिया। मुख्य सचिव के आदेश दिनांक 12 मई 2020 की अवहेलना होने की जानकारी होने पर  सेतु निगम डिप्लोमा इंजीनियर्स एसोसिएशन तथा  उत्तर प्रदेश डिप्लोमा इंजीनियर्स महासंघ ने इसका प्रबल विरोध करते हुए उक्त कार्यमुक्ति आदेश वापस लेने की मांग की गई । इस मामले में अब राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद उत्तर प्रदेश  ने लिखित रूप से मुख्य सचिव को पत्र लिखकर अवगत कराया है कि आपके शासनादेश के उपरान्त रामबाबू दिवाकर सहायक अभियंता के कार्यमुकत करने में वह सभी कारक परिलक्षित हो रहे जिसमें स्थानान्तरण नीति का उल्लंघन हो रहा है। अत: कर्मचारियों के आक्रोष को देखते हुए सम्बधित अधिकारी को निर्देशित करें।
इस सम्बंध में परिषद की तरफ से महामंत्री शिवबरन सिंह यादव ने बताया कि सेतु निगम में कार्यवाहक एमडी इं. ए.के. श्रीवास्वत कार्यरत है। इनके अधिनस्थ अधिकारी द्वारा मुख्य सचिव के स्पष्ट आदेश के बावजूद मथुरा इकाई के े सहायक अभियंता रामबाबू दिवाकर को 13 मई को कार्यमुक्ति आदेश दिये गए। इस आशय को लेकर परिषद के घटक  सेतु निगम डिप्लोमा इंजीनियर्स एसोसिएशन द्वारा कार्यवाहक प्रबंध निदेशक सेतु निगम को सम्बोधित पत्र के हवाले से प्रदेश अध्यक्ष इं. श्रीप्रकाश गुप्ता द्वारा 5 मार्च को उक्त सहायक अभियंता के तबादले का जिक्र करते हुए 12 मई 2020 तक निगम हित में कार्य कराते हुए अचानक मुख्य सचिव के स्पष्ट आदेश के दूसरे दिन यानि 13 मई को कार्यमुक्ति आदेश पर उगली उठाते हुए इस आदेश को प्रताड़ना करार देते हुए मुख्य सचिव के आदेश 12 मई का अनुपालन किये जाने की मांग की थी। इसके उपरान्त इस मामले में डिप्लोमा इंजीनियर्स महासंघ के महासचिव इं. जीएन सिंह ने भी प्रबंध निदेशक को उक्त कार्यमुक्ति के आदेश को स्थानान्तरण की परिधि में आने का हवाला देते हुए मुख्य सचिव के आदेश के अनुरूप कार्य करने तथा आदेश की अवहेलना करने के लिए पत्र लिखा है। क्योकि सेतु निगम डिप्लोमा इंजीनियर्स एसोसिएशन राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद उत्तर प्रदेश का घटक संघ है ऐसे में यह मामला परिषद के संज्ञान मे ंआने के बाद फिलहाल इसकी शिकायत मुख्य सचिव से लिखित रूप में की जा चुकी है। जल्द ही इस मामले में एक प्रतिनिधि मण्डल मुख्य सचिव से मिलकर वस्तु स्थिति से उन्हें अवगत करायेगा।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,