हमारे ऋषि-मुनियों ने हजारों वर्ष पहले योग के महत्व को समझा और इसे जीवन का आधार बनाया-आन्द्रा वामसी

 


झांसी,जनपद में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर आला अधिकारियों सहित विभिन्न सामाजिक संगठन, एनजीओ ने सोशल डिस्टेंसिंग के साथ घर पर सामान्य प्रोटोकॉल के अनुसार योगाभ्यास किया।


 मंडलायुक्त श्री सुभाष चंद्र शर्मा ने अपने आवास पर अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर योगा करते हुए कहा कि योग को यदि नियमित रूप से अपनी दिन दिनचर्या में समाहित कर लें, तो जहां हमारा शरीर स्वस्थ रहेगा वही हमारा मन भी प्रफुल्लित रहेगा। योग के माध्यम से हम अपने जीवन में सकारात्मक सोच को डेवलप कर सकते हैं ।
जिलाधिकारी श्री आन्द्रा वामसी ने अपने आवास पर अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर सूर्य नमस्कार, त्रिकोणासन, धनुषासन,वज्रासन सहित अनेक योग क्रियाओं को किया। जिलाधिकारी ने विभिन्न प्रकार के योग क्रियाओं को करते हुए कहा कि हमारे ऋषि-मुनियों ने हजारों वर्ष पहले योग के महत्व को समझा और इसे जीवन का आधार बनाया।
 उन्होंने कहा कि वर्तमान परिवेश में काम की अधिकता होने के कारण लगातार तनाव बना रहता है, यदि नियमित योगाभ्यास किया जाए तो सांसो की लय में संतुलन आएगा व मन तनाव मुक्त हो कर धीरे-धीरे शांत होने लगेगा। योग को नियमित रूप से करने से बीमारियां भी हमारे आस पास नहीं आ पाती। जिससे व्यक्ति स्वस्थ रहता है। उन्होंने कहा कि कोरोना से लड़ाई में योग की महत्वपूर्ण भूमिका है।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,