मुंबई से 28 बसों से भेजे गए प्रवासी श्रमिक

 देवरिया लाकडाउन में समाजसेवी धनलक्ष्मी इलेक्ट्रिकल कम्पनी सीएमडी मैनुद्दीन खान की छवि मसीहा बनकर उभरी है। उनके पास जो भी सहायता के लिए पहुंचा है, उन्होंने उसकी हर मुमकिन मदद की है। उन्होंने प्रवासी मजदूरों की हर तरह से सहायता पहुंचाई हैसमाजसेवी मैनुद्दीन ने लाकडाउन में मुम्बई में फंसे यूपी के गोरखपुरदेवरिया, कुशीनगर के सैकड़ों मजदूरों को अपने पैसे से 28 बस बुक कर के मुम्बई से उनके गांव भेजने का कार्य कर रहे है। रामपुर कारखाना थाना क्षेत्र बुद्ध खा गांव निवासी समाजसेवी व धनलक्ष्मी इलेक्ट्रिकल कम्पनी के सीएमडी मैनुद्दीन खान लाकडाउन में मुम्बई में फंसे यूपी के गोरखपुर, देवरिया, कुशीनगर के सैकड़ो प्रवासी मजदूरों को अपने पैसे से 28 बस बुक कर उनके जनपद भेजने का कार्य कर है। उन्होंने लाकडाउन के दौरान पथरदेवा थाना क्षेत्र के 200 गांव निशुल्क राशन पहुंचाने का जिम्मा उठाया था और हर परिवार राशन पहुंचाने का कार्य किया हैमैनुद्दीन खान ने जिले के पथरदेवा व रामपुर के गांवों में अपने पैसे से सेनिटाइजर का छिड़काव भी करवा रहे है। कोरोना संक्रमण के बचाव के लिए उन्होंने डेढ़ लाख मास्क वितरीत किए । अपने वालेंटियर्स के माध्यम मास्क लगाओ कोराना भगाओ मुहिम चला रहे है। गांव-गांव जा कर इनके वालेंटियर लोगों को मास्क और साबुन वितरण करते हुए कोरोना के प्रति लोगों को जागरूक कर रहे है। लाकडाउन के दौरान मुम्बई में फंसे देवरिया के रामपुर कारखाना थाना क्षेत्र के अजय विकास अमित आदिब रहमान व अली ने बताया कि वह लाकडाउन में मुम्बई में फंस गए थे। वहां से गांव आने का कोई साधन नहीं था हम लोगों ने जनसुनवाई पर भी आवेदन किए थे, लेकिन कोई रिस्पॉन्स नहीं मिला तब हम लोगों के एक मित्र ने समाजसेवी मैनुद्दीन खान के बारे में बताया इसके बाद हम लोग उनसे मिले जिसके बाद उन्होंने 28 बस बुक कर के हम लोगों को सुरक्षित हमारे गांव भेजा। इसके लिए हम सभी उनको धन्यवाद देते है।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,