टिड्डियों का दल छोटे-छोटे दलों में विभक्त हो कर जनपदों के विकासखण्डों में बिखरा

 25.06.2020 को प्राप्त सूचना के अनुसार प्रदेश के झॉसी, बॉदा, चित्रकूट, प्रयागराज, मीरजापुर, भदोही, जौनपुर, आजमगढ, वाराणसी, चन्दौली एवं गाजीपुर जनपदों के विभिन्न विकासखण्डों में टिड्डियों का दल उड़ान पर हैं टिड्डियों का दल छोटे-छोटे दलों में विभक्त हो कर जनपदों के विकासखण्डों में बिखरा हुआ है, जो रात्रि होते ही किसी न किसी स्थल पर आश्रय लेगा। उपरोक्त जनपदों की कृषि विभाग की टीम टिड्डी दलों पर निरन्तर निगरानी रखे हुए हैटिड्डियों के विश्राम लेते ही उनके नियंत्रण की कार्यवाही प्रारम्भ कर दी जायेगी। उपरोक्त जनपदों के अतिरिक्त इनसे सटे हुए जनपदों यथा-हमीरपुर, फतेहपुर, कौशाम्बी, मीरजापुर, प्रतापगढ़, सुल्तानपुर, मऊ एवं बलिया आदि जनपदों के अधिकारियों को अलर्ट रहने के निर्देश दिये गये हैं__दिनांक 24.06.2020 के सायं में टिड्डियों के एक दल ने विकासखण्ड शंकरगढ के चाम, ललई एवं बेलवाई गॉवों के बीच लगभग 3 किमी0 की दूरी में आश्रय लिया। कृषि विभाग, अग्नि शमन एवं भारत सरकार की टीम द्वारा रात्रि भर चलाये गये संयुक्त अभियान में 60-70 प्रतिशत टिड्डियों को संस्तुत कृषि रक्षा रसायनों के छिड़काव द्वारा मार दिया गया। शेष टिड्डियाँ प्रयागराज जनपद के जसरा एवं शंकरगढ़ विकासखण्ड में उड़ान पर हैटिड्डी दलों के आक्रमण की दशा में संस्तुत कृषि रक्षा रसायनों मैलाथियान 96 प्रतिशत ई०सी०,क्लोरपाइरीफास 50 प्रतिशत ई०सी०, क्लोरपाइरीफास 20 प्रतिशत ई०सी०, लैम्बडासाईहैलोथिन 5 प्रतिशत ई0सी0 तथा फिप्रोनिल 5 प्रतिशत एस0सी0 का गहन छिड़काव कर टिड्डी दलों को उनके प्रवास के ठिकानों पर ही नियन्त्रित/समाप्त करने की सलाह दी गयी है।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,