समाजवादी सरकार में कभी भी अपराधियों को प्रश्रय नहीं दिया गया। भाजपा ने न सिर्फ अपराधियों को पनाह दी- अखिलेश यादव

लखनऊ ,समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने कहा है कि समाजवादी पार्टी हमेशा से ही अपराधियों के खिलाफ रही है। समाजवादी सरकार में कभी भी अपराधियों को प्रश्रय नहीं दिया गया। भाजपा ने न सिर्फ अपराधियों को पनाह दी है बल्कि अपराधों को रोक पाने में पूरी तौर पर विफल रहीं है। फर्जी एनकाउण्टर के उनके प्रयोग से अपराधी तो डरे नहीं निर्दोष अवश्य भयग्रस्त हो गये। सबसे ज्यादा अपराधी भाजपा में ही है। आखिर भाजपा न्यायालयों पर भरोसा क्यों नहीं करती है?
      सत्ता के मद में विधिक प्रक्रिया से बाहर जाकर पुलिस बल का दुरूपयोग करने से अपराधों पर रोक नहीं लग सकती। जब तक भाजपा अपने बचाव में दूसरों को फंसाने की रणनीति पर काम करती रहेगी तब तक सुशासन स्थापित नहीं हो सकता। बदले की भावना से विपक्ष पर हमलावर होने से भाजपा को कुछ मिलने वाला नहीं क्योंकि झूठ के पैर नहीं होते हैं।
      समाज में नफरत फैलाना और समाज को बांट कर राजनीति करना यह लोकतंत्र की स्वस्थ परम्पराओं के विरूद्ध है। सरकार की यह जिम्मेदारी है कि समाज में सभी के साथ बराबरी का व्यवहार होना चाहिए। जाति के आधार पर निर्णय करने से समाज में असंतोष व्याप्त होता है। इसलिए समाजवादी पार्टी सदैव सामाजिक न्याय की पक्षधर रही है, जिससे किसी भी वर्ग के अधिकारों का हनन न हो। बराबरी का समाज बनने से भेदभाव मिटता है।
     भाजपा राजनीतिक ताकत चाहती है, जनता को ताकत मिले या न मिले। भाजपा को बस सरकार की भूख है, जनता की भूख से उसका कुछ लेना देना नहीं। जनता निराश है, भाजपा ने प्रगति का रास्ता रोका है। लोगों का भरोसा तोड़ा है। मुख्यमंत्री जी की ‘‘ठोको नीति‘‘ के कारण अपराध बढ़ते जा रहे हैं। अपनी विफलता के बारे में चर्चा करना भाजपा नेतृत्व को रास नहीं आता है। प्रदेश में तीन वर्ष चार माह में जनता को भाजपा ने उलझा दिया है। गुमराह करने को ही भाजपा अपनी सफलता समझती है। यही अंतर है भाजपा और समाजवादी पार्टी में।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,