18 साल से नगर निगम की जमीन पर अवैध रूप से रह रहे सेवानिर्वित कर्मचारी के परिवार से नगर निगम वसूलेगा करोड़ों का बकाया भेजा नोटिस


गोरखपुर। अवैध कब्जे को मुक्त कराने और बकाया राशि वसूलने के लिए प्रदेश सरकार द्वारा जारी निर्देशानुसार नगर निगम के अधिकारियों ने कमर कस ली है। नगर निगम में प्रभारी सम्पत्ति विभाग सहायक नगर आयुक्त वैभव त्रिपाठी ने बताया कि प्रदेश सरकार के अवैध कब्जा को मुक्त कराने की कार्यवाही के अनुक्रम में नगर आयुक्त के निर्देश के अनुपालन में एक कार्रवाई की गई है जिसके अंतर्गत नगर निगम गोरखपुर में कार्यरत स्वर्गीय शांति देवी जिनकी मृत्यु सन 2001 में हुई उनके पति सोमारू राम उस स्थान पर जच्चा बच्चा केंद्र स्थित आवास पर अवैध कब्जा बनाए हुए थे यह अवैध कब्जा 31 जुलाई 2001 को शांति देवी द्वारा सेवानिवृत्त होने के बाद भी आवास खाली नहीं किया गया। 2004 में शांति देवी की मृत्यु हो गई उसके बाद 2001 से लेकर अगस्त 2019 तक अवैध कब्जे पर उनके पति वहां पर काबिज रहे। कई बार नोटिस देने के बाद भी उन्होंने नगर निगम को किराया नहीं दिया अतः उनके लिए किराए का निर्धारण करते हुए नगर निगम गोरखपुर की तरफ से, एक करोड़ पांच लाख उनचास हज़ार चार सौ इक्यानबे रुपये (10549491 रुपये) का नोटिस जारी किया गया है और उन्हें निर्देशित किया गया है कि वह है यह राशि 15 दिन के भीतर नगर निगम कोष में जमा करें। अन्यथा इसकी रिकवरी के लिए आवश्यक कार्यवाही की जाएगी। सोमारू राम ने नगर निगम द्वारा जारी नोटिस को प्राप्त कर लिया है। 15 दिन के अंदर अगर बकाया राशि नगर निगम कोष में जमा नहीं होता है तो उक्त राशि पर 10% ब्याज भी नगर निगम वसूलेगा।


 

 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,