महोबा कांड में पूर्व एसपी का एक और झूठ उजागर हुआ

महोबा,प्रकरण में एसआईटी ने माना कि पुलिस गलत मंशा से काम कर रही थी। जांच में सबसे बड़ा साक्ष्य  कबरई थाने से जारी किया 160 सीआरपीसी सी का नोटिस है जो 30 अगस्त को इन्द्रकान्त त्रिपाठी को भेजा गया था। यह दबाव बनाने का तरीका था। 7 सितंबर को जब कारोबारी  ने पूर्व एसपी  मणिलाल पाटीदार के भ्रष्टाचार को उजागर करने वाला वीडियो जारी किया और अपनी  जान को खतरे में बताते हुए वीडियो वायरल किया।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,