ओबीसी व एससीएसटी का आरक्षण समाप्त करना चाहती है सरकार : तिलक यादव






सम्मान न मिलने से बसपा-भाजपा से पदाधिकारियों का हो रहा मोह भंग

 

ललितपुर। कहते हैं कि किसी भी राजनैतिक दल में पुराने व वरिष्ठ पदाधिकारियों और कार्यकर्ता रीढ़ की हडडी होते हैं। उक्त राजनैतिक दल को अपनी मेहनत से सींचकर एक वट वृक्ष के रूप में तैयार किया जाता है। वट वृक्ष बनने के बाद ऐसे मेहनती और पुराने कार्यकर्ताओं की उपेक्षा होने लगती है तो समय के साथ ही परिवर्तन भी हो जाता है। ऐसा ही वानगी सोमवार को सपा जिलाध्यक्ष तिलक यादव एड. के आवास इन्द्रप्रस्थ पर देखने को मिली। यहां प्रदेश की सत्ता पर राज कर चुकी बहुजन समाज पार्टी और वर्तमान शासित भाजपा के वरिष्ठ पदाधिकारियों ने समाजवादी पार्टी की विचारधारा से प्रभावित होकर सदस्यता ग्रहण की। 

सपा जिलाध्यक्ष तिलक यादव एड. ने बड़ा आरोप लगाते हुये कहा कि वर्तमान में भाजपा नेतृत्व वाली केन्द्र व प्रदेश सरकार पिछड़ा वर्ग और अनुसूचित जाति-जनजाति को संवैधानिक तरीके से मिलने वाले आरक्षण को समाप्त करने की फिराक में है। इस कार्य में सफल होने के बाद पिछड़ों व अनुसूचित जाति-जनजाति के लोगों की सुनने वाला भी कोई नहीं होगा। कहा कि जब नौकरियों व योजनाओं में आरक्षण को समाप्त कर दिया जायेगा तो उत्पीडऩ का दौर चल पड़ेगा। उन्होंने कहा कि अब भी वक्त है संभलने का संभल जाओ और अपने अधिकारों के लिए पिछड़ा वर्ग व अनुसूचित जाति-जनजाति के लोग आगे आयें। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी में हर वर्ग का सम्मान और अधिकार सदैव ही सुरक्षित रहा है और रहेगा। इस मौके पर भाजपा से अशोक अहिरवार नदीपुरा, बसपा से दयाराम बाल्मीकि पाली, जितेन्द्र अहिरवार बांसी, राजकुमार रजक पाली, गौरीशंकर अहिरवार पाली, पप्पूलाल बरार ककड़ारी, सुधीर बरार विष्णुपुरा, कल्लू ठेकेदार नेहरूनगर ने समाजवादी पार्टी की प्राथमिक सदस्यता ग्रहण की। इस मौके पर जिला प्रवक्ता खुशालचंद्र साहू, महरौनी विधानसभा अध्यक्ष अमर सिंह यादव आदि मौजूद रहे।


 

 




 




 



 



इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,