उ.प्र. राज्य महिला आयोग द्वारा प्रदेश में महिला उत्पीड़न की गम्भीर घटनाओं पर स्वतः संज्ञान लेते हुए सम्बन्धित जनपदों के पुलिस आयुक्त/जिलाधिकारी एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को पत्र भेजते हुए कृत कार्यवाही की आख्या मांगी

उ.प्र. राज्य महिला आयोग द्वारा प्रदेश में महिला उत्पीड़न की गम्भीर घटनाओं पर रोकथाम और पीडि़त महिलाओं को त्वरित न्याय दिलायें जाने के उद्देश्य से विभिन्न दैनिक समाचार पत्रों/विभिन्न इलेक्ट्रानिक मीडि़या के चैनलों में प्रकाशित/प्रसारित घटनाओं का स्वतः संज्ञान लेते हुए सम्बन्धित जनपदों के पुलिस आयुक्त/जिलाधिकारी एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को पत्र भेजते हुए कृत कार्यवाही की आख्या मांगी गयी। 
जनपद मेरठ के ’’ चलती बस में सामूहिक दुष्कर्म’’ विषयक प्रकाशित घटना का संज्ञान लेते हुये जिलाधिकारी व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मेरठ को पत्र प्रेषित कर तत्काल आख्या मंगायी गयी।
जनपद हाथरस के ’’जिन्दगी और मौत से जूझ रही हाथरस की दुष्कर्म पीडि़ता’’ विषयक प्रकाशित घटना का संज्ञान लेते हुये जिलाधिकारी अलीगढ़/हाथरस व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अलीगढ़/पुलिस अधीक्षक हाथरस को पत्र प्रेषित कर तत्काल आख्या मंगायी गयी।
जनपद लखनऊ के ’’दुष्कर्म पीडि़ता को दे रहें धमकी व महिला डाक्टर ने फॉसी लगाकर दी जान तथा छात्रा ने शिक्षक पर लगाया प्रताड़ना का अरोप’’ विषयक प्रकाशित घटनाओं का संज्ञान लेते हुये पुलिस आयुक्त लखनऊ नगर को पत्र प्रेषित कर तत्काल आख्या मंगायी गयी।
जनपद अमेठी के ’’नाबालिक लड़की के साथ हुआ दुराचार’’ विषयक प्रकाशित घटना का संज्ञान लेते हुये पुलिस अधीक्षक अमेठी को पत्र प्रेषित कर तत्काल आख्या मंगायी गयी।
जनपद बदायूॅ के ’’प्रेम विवाह करने वाली युवती की हत्या’’ विषयक प्रकाशित घटना का संज्ञान लेते हुये वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक बदायूॅ को पत्र प्रेषित कर तत्काल आख्या मंगायी गयी।
   


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,