श्रमिकों को आधार कार्ड की तर्ज पर दिया जायेगा यूनीफाइड नम्बर श्रमिकों की समस्याओं के समाधान हेतु जनपदों में आयोजित होंगे जनसुनवाई कार्यक्रम

लखनऊ 07 अक्टूबर, 2020
उत्तर प्रदेश श्रम कल्याण परिषद के अध्यक्ष श्री सुनील भराला ने कहा कि प्रदेश के कारखानों एवं वाणिज्यिक दुकानों में काम करने वाले श्रमिकों को आधार कार्ड की तर्ज पर यूनीफाइड नम्बर दिया जायेगा। श्रमिकों की समस्याओं का समाधान करने के लिए जनसुनवाई कार्यक्रम भी जनपदों में आयोजित किये जायेंगे, जिसकी शुरूआत गौतम बुद्ध नगर से की जायेगी।
श्रम कल्याण परिषद के अध्यक्ष श्री भराला इन्दिरा भवन स्थित अपने कार्यालय में परिषद की 74वीं बैठक कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सेवायोजकों को आनलाइन पंजीयन करने के लिए सुविधा प्रदान की गई है। इसके लिए अधिकारियों को निर्देश भी दिया गया है कि पंजीयन का लाभ सेवायोजक अधिक से अधिक उठायें। इसके लिए उन्हें प्रेरित भी किया जाए।
श्री भराला ने बताया कि श्रम कल्याण परिषद की 03 नई योजनाओं को बोर्ड द्वारा पारित कर दिया गया है। इसमें महादेवी वर्मा श्रमिक पुस्तक क्रय योजना, स्व0 चेतन चैहान खेल सहायता योजना तथा स्वामी विवेकानन्द धार्मिक एवं पर्यटन यात्रा योजना शामिल है। इन योजनाओं के तहत कारखानों में कार्यरत श्रमिक की पुत्रियों को स्नातक एवं परास्नातक की पढ़ाई के लिए किताब/कापियों के क्रय हेतु आर्थिक सहायता प्रदान किया जायेगा। श्रमिकों के पुत्र/पुत्रियों को जिला, राज्य, राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय खेलों में चयन होने पर आर्थिक सहायता दी जायेगी। इसी प्रकार प्रदेश के ऐतिहासिक व धार्मिक स्थलों का श्रमिकों को भ्रमण भी करवाया जायेगा।
उन्होंने निर्देशित किया कि 10 नवम्बर, 2020 को राष्ट्रऋषि दत्तोपंत ठेंगड़ी जी के जन्म शताब्दी वर्ष के समापन अवसर पर आयोजित होने वाले कार्यक्रम में मुख्यमंत्री के साथ भारत सरकार के श्रम मंत्री श्री संतोष गंगवार व पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री श्री प्रह्लाद पटेल को विशेष अतिथि के रूप में आमंत्रित किया जाए। उन्होंने इस अवसर पर प्रकाशित होने वाली स्मारिका के प्रकाशन कार्यों में भी तेजी लाने के भी निर्देश दिए। बैठक में परिषद के सदस्यों के साथ विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,