एनआरआई प्रशांत पाठक ने चीन से अपना मैन्यूफैक्चरिंग प्लांट यू0पी0 में शिफ्ट करने का दिया प्रस्ताव - सिद्धार्थ नाथ सिंह

लखनऊः  04 दिसम्बर, 2020

     उत्तर प्रदेश के प्रवासी भारतीयों को आवश्यक सुविधाएं सुलभ कराने और निवेश को आकर्षित करने के लिए हालही में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा लांच की गई ूूूण्दतपण्नचण्हवअण्पद वेबसाइट के माध्यम से त्वरित कार्यवाही शुरू कर दी गई है। इसके तहत यूपीएनआरआई कार्ड जारी किये जाने हेतु अब तक प्राप्त 568 प्रार्थना-पत्रों के सापेक्ष 507 कार्ड जारी किये जा चुके है। साथ ही वेबसाइट पर निवेश के संबंध में प्रवासी भारतीयों से प्रस्ताव भी प्राप्त हुए और उनकी आशंकाओं का समाधान भी सुनिश्चित किया गया है।
     यह जानकारी प्रदेश के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम तथा एन0आर0आई0 मंत्री श्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने आज यहां दी। उन्होंने बताया कि प्रवासी भारतीयों के माध्यम से उत्तर प्रदेश में विदेशी निवेश को बढ़ाने के लिए एनआरआई की सुविधा हेतु नोडल अधिकारी नामित किया गया है, जिनके माध्यम से प्रवासी भारतीयों की जिज्ञासाओं का त्वरित समाधान की व्यवस्था सुनिश्चित की गई। उन्होंने बताया कि ओमान में एनआरआई श्री शिशिर सिंह द्वारा फूड प्रोसेसिंग यूनिट लगाने के संबंध में इच्छा व्यक्त की गई, जिसके लिए उन्होंने प्रदेश सरकार की नीतियों एवं योजनाओं के संबंध में जानकारी एवं मागदर्शन देने की अपेक्षा की। इसी प्रकार साउथ अफ्रीका में एनआरआई श्री आशीष शर्मा ने गोरखपुर में अन्तर्राष्ट्रीय स्तर का विश्वविद्यालय स्थापित करने की इच्छा प्रकट की और इस संबंध में आवश्यक जानकारियां चाहीं। इनके अलावा कनाडा में एनआरआई श्री प्रशांत पाठक ने अपने मैन्यूफैक्चरिंग प्लांट रेगराटा को चीन से उत्तर प्रदेश में शिफ्ट करने का प्रस्ताव दिया। जिसमें 750 करोड़ रुपये का निवेश होगा। इस बारे में उन्होंने उत्तर प्रदेश सरकार से उद्यम स्थापना संबंधी आवश्यक जानकारी दिये जाने का अनुरोध किया। नोडल अधिकारी द्वारा तत्काल इन सभी उद्यमियों की जिज्ञासाओं का समाधान किया गया और आवश्यक जानकारियां भी उपलब्ध करा दी गई हैं।
     एन0आर0आई0 मंत्री ने बताया कि उत्तर प्रदेश प्रवासी भारतीय रत्न पुरस्कार के चयन की कार्यवाही तेजी से चल रही है। पुरस्कार के चयन हेतु 08 महानुभावों के प्रमाण-पत्र परीक्षण की प्रक्रिया के अधीन हैं। इसके अलावा पोर्टल के माध्यम से उत्तर प्रदेश प्रवासी भारतीय के मृत शरीर के पारगमन हेतु उचित कार्यवाही भी की जा रही हैं। उन्होंने बताया कि पोर्टल पर कुल 09 शिकायती पत्र भी प्राप्त हुए, जिनकोे संबंधित जिले के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एंव जिलाधिकारियों को प्रेषित किया गया। साथ ही नोडल अधिकारी द्वारा लगातार इनका अनुश्रवण कर प्रकरण को निस्तारित भी कराया गया।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा

मंगलमय हो मिलन तुम्हारा

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?