किसान आंदोलन की मुखर आवाज बनी समाजवादी पार्टी : तिलक यादव

तालबेहट के कंधारी खुर्द में किसान चौपाल का हुआ आयोजन ललितपुर। कृषि संशोधन बिल को वापस लिये जाने, एमएसपी की गारण्टी और भण्डारण क्षमता निर्धारण करने की मांग को लेकर देश में चल रहे किसान आंदोलन अब मुखर होता नजर आ रहा है। सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के निर्देश व प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम के आह्वान पर जनपद के ग्रामीण अंचलों में किसान चौपालों का आयोजन किया जा रहा है। रविवार को तालबेहट के ग्राम कंधारीखुर्द में किसान चौपाल का आयोजन जिलाध्यक्ष तिलक यादव एड. की अध्यक्षता में किया गया। चौपाल में जिलाध्यक्ष तिलक यादव एड. ने कृषि बिल के खिलाफ किसानों को जागरूक करते हुए कहा कि किसानों को अब आवश्यकता है तो सिर्फ अपने अधिकारों के प्रति जागरूक होकर संघर्ष करने की। उन्होंने कहा कि किसान अपनी आवाज मुखर नहीं करेगा तो ऐसे काले कानून के प्रभावी होने से वह अपने ही खेतों में मजदूर बनकर रह जायेगा। उन्होंने आह्वान करते हुये कहा कि किसान देश की अर्थव्यवस्था को दुरुस्त बनाये रखने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वाह्न करता है। ऐसे में किसानों की बदहाली को दूर करने का काम सरकार का है, लेकिन सरकार सिर्फ उद्योगपतियों को रोजगार देने का काम कर रही है। ऐसे में किसानों को अपने अधिकार प्राप्त करने के लिए स्वयं ही संघर्ष करना होगा। इस दौरान फूलसिंह लखनपुरा, रामजीवन, स्वामी प्रसाद एड., प्रवक्ता खुशालचंद्र साहू, धनीराम रजक एड., वीरन सिंह, रोहित, खुशीराम, मलखान सिंह, रविंद्र कुमार, अवतार सिंह, रामअवतार, मंगल सिंह, हरप्रसाद, मातादीन, महेश, देवीसिंह, कल्याण सिंह, सुनील अग्रवाल, संतोष अग्रवाल, रामनिवास राजपूत, रामकुमार, जितेंद्र कुमार आदि शामिल रहे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा

मंगलमय हो मिलन तुम्हारा

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?