कोरोना के इस वीभत्स काल में व्यापारियों को राहत दिलाये सरकार

समाजवादी व्यापार सभा ने मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन ललितपुर। कोविड 19 की दूसरी लहर में लगे लॉकडाउन की वजह से प्रदेश के करोड़ों व्यापारी त्राहि-त्राहि कर रहे हैं। हर व्यापारी को विकट कठिनाइयों व समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। शायद ही कोई व्यापारी होगा जिसका परिवार इस दूसरी लहर में कोरोना से बचा होगा। व्यापार बन्द है और इलाज का अभाव है। नोटबन्दी और जीएसटी से परेशान व्यापारी अभी तक सम्भला ही नहीं था कि 1 वर्ष में दो बार लॉकडाउन ने तो व्यापारी की कमर ही तोड़ दी है। प्रदेश के करोंड़ों, बड़े, मध्यमवर्गीय व छोटे-लघु व्यापारियों को हो रही समस्याओं व उनके जीवन यापन में कठिनाइयों को देखते हुए समाजवादी व्यापार सभा सरकार से तत्काल व्यापारियों को राहत दिये जाने की मांग उठायी है। इस सम्बन्ध में सपा जिलाध्यक्ष तिलक यादव एड. के निर्देशन में समाजवादी व्यापार सभा ने जिलाध्यक्ष प्रदीप जैन चिगलौआ के नेतृत्व में एक ज्ञापन प्रदेश के मुख्यमंत्री को भेजते हुये नौ सूत्रीय समस्याओं के त्वरित निस्तारण की मांग उठायी। समाजवादी व्यापार सभा ने समस्याओं को लेकर बताया कि शासन प्रदेश के सभी दुकानदारों के अप्रैल व मई 2021 माह के बिजली बिल माफ करे। उद्योगों की कॉमर्शियल बिजली मीटर पर फिक्स्ड दर (मिनिमम चार्जेस) की जगह असल में हुई बिजली खपत का बिल ही वसूला जाये, जी.एस.टी. पंजीकृत, मंडी शुल्क देने वाले, रेहड़ी-ठेले में पंजीकृत सभी व्यापारियों, दुकानदारों, आदि को मुफ्त मेडिक्लेम बीमा की सुविधा उपलब्ध कराई जाये। कोरोना की वजह से मृत्यु होने पर जीएसटी, मंडी परिषद या किसी भी विभाग में पंजीकृत व्यापारी सरकार साथ ही साथ अपंजीकृत व्यापारी जैसे कि ठेले वाले, पटरी वाले व रेहड़ी वालों की भी मृत्यु होने पर परिवार को 10 लाख का मुआवजा दिया जाये। मजदूरों व कमजोर वर्ग की तरह ठेले,पटरी, रेहड़ी वालों को भी शासन मुफ्त राशन की व्यवस्था करे। दुकान खुली मिलने पर पुलिस द्वारा व्यापारियों से अमानवीय व्यवहार की शिकायतें आ रही हैं। सरकार सुनिश्चित करे की किसी भी व्यापारी व आमजन के साथ भी अमानवीय व्यवहार न हो। लॉकडाउन में व्यापारी को हफ्ते में दो दिन दुकान की सफाई व जरूरी कागजात निकालने की अनुमति दी जाए। सभी विभागों के रिटर्नस दाखिल करने की अवधि बढाई जाए। प्रदेश सरकार एनपीए की अवधि 90 दिन की जगह 180 दिन तथा व्यापारिक ऋण पर अप्रैल व मई माह का ब्याज माफ करने तथा बैंकों की किश्त पर मोराटोरियम की सुविधा देने का केंद्र सरकार से आग्रह करे। समाजवादी व्यापार सभा की मांगों पर सहानूभूतिपूर्वक विचार करते हुए,व्यापारियों के हित में उचित निर्णय लेकर प्रदेश के करोड़ों व्यापारियों को राहत देने की मांग उठायी है। इस दौरान अभिषेक सिंघई मडावरा, महेंद्र सिंह दिया, संतोष साहू खजुरिया, सुनील भैया बाडी, महेंद्र सोनी, अजय पहलवान, दीपक जैन, मुलायम सिंह खड़ोवरा, राजेश जैन, बल्ली पहलवान, मुकेश चौरसिया पाली, रंजीत सिंह सिसोदिया आदि मौजूद रहे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा

पौष्टिकता से भरपूर: चंद्रशूर