वरिष्ठ नेता और कांग्रेस विचारक पंडित यतीन्द्र नाथ चतुर्वेदी को उत्तर प्रदेश कांग्रेस के शोध विभाग का सचिव बनाया

कांग्रेस की महत्वपूर्ण रणनीति के अंतर्गत वरिष्ठ नेता और कांग्रेस विचारक पंडित यतीन्द्र नाथ चतुर्वेदी को उत्तर प्रदेश कांग्रेस के शोध विभाग का सचिव बनाया गया। ● आगामी विधानसभा निर्वाचन 2022 के लिए कांग्रेस ने अपने संगठन को कसना आरम्भ कर दिया है। इसी क्रम में उत्तर प्रदेश की प्रभारी महासचिव श्रीमती प्रियंका गाँधी के निर्देश पर अध्यक्ष श्री अजय कुमार 'लल्लू' ने कांग्रेस की महत्वपूर्ण रणनीति के अंतर्गत वरिष्ठ नेता और कांग्रेस विचारक पंडित यतीन्द्र नाथ चतुर्वेदी को उत्तर प्रदेश कांग्रेस के शोध विभाग का सचिव बनाया है। इस प्रकार उत्तर प्रदेश कांग्रेस के शोध विभाग के चेयरमैन श्री गौरव कपूर द्वारा 21 सदस्यीय कमेटी का एक पत्र जारी किया गया है। ज्ञातव्य हो कि पूर्व छात्रनेता पंडित यतीन्द्र नाथ चतुर्वेदी इससे पूर्व दिल्ली विधान सभा निर्वाचान 2020 के एआईसीसी ऑब्ज़र्वर, पूर्व सह-प्रभारी : वाराणसी मंडल और लोकसभा चुनाव 2019, प्रचार समिति, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस उत्तर प्रदेश|, पूर्व मीडिया समन्वयक '27 साल यू पी बेहाल यात्रा' उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी, मीडिया पैनेलिस्ट-उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी, महासचिव-अखिल भारतीय युवा कांग्रेस-उत्तर प्रदेश, प्रवक्ता, सचिव, अध्यक्ष वाराणसी मंडल-भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन-उत्तरप्रदेश, प्रवक्ता- सरयूपारीण ब्राह्मण परिषद आदि दायित्वों के साथ जनसेवा के समर्पित नेता रहे हैं। छात्र आंदोलन 1997, गंगा आंदोलन के जुझारू सेनानी, काशी प्रतिकार यात्रा के योद्धा, मंदिर बचाओ आंदोलन के प्राथमिक सदस्य, पंडित यतीन्द्र नाथ चतुर्वेदी के जीवन प्रसंग रहे हैं। इस अवसर पर पंडित यतीन्द्र नाथ चतुर्वेदी ने कहा "कि लोकजीवन का आत्मसम्मान बिखरा पड़ा है अंधविकास के मलबे में। सदियों पुरानी हमारी खुशहाली का न्याय लोकतंत्र की ड्योढ़ी पर खड़ा है। पंडित जवाहर लाल नेहरू ने कहा था आराम तब तक हराम है जब तक भारत के आखिरी छोर का व्यक्ति स्वयं में सुकून महसूस न करे।' पद, वरीयता अनुक्रम एक छोर है और कांग्रेस का कैनवास दूसरा किनारा! कांग्रेस का कुल और कापड़ सहेजने के लिए पुनः अंतिम पंक्ति के कार्यकर्त्ता के रूप में मुस्तैद हूँ।'

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि