आयुष चिकित्सालयों के निर्माण कार्यों की प्रगति रिपोर्ट मुख्यालय को अवश्य भेजें -डा0 दयाशंकर मिश्र दयालु

लखनऊ: दिनांक: 05 अक्टूबर, 2023 प्रदेश के आयुष राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन (एमओएस) डा0 दयाशंकर मिश्र दयालु ने आज उ0प्र0 राज्य आयुष सोसाइटी कार्यालय के सभागार में प्रदेश के 50 बेड शैय्यायुक्त चिकित्सालयों के अधीक्षक, क्षेत्रीय आयुर्वेदिक एवं यूनानी अधिकारी/जिला होम्योपैथिक चिकित्सा अधिकारी के साथ वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से विभागीय समीक्षा बैठक की। उन्होंने सभी अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि आयुष विभाग द्वारा कराये जा रहे निर्माण कार्यों को प्राथमिकता पर पूरा करायें। निर्माण कार्यों में किसी प्रकार की लापरवाही नहीं होनी चाहिए। उन्होंने निर्देश दिये कि निर्माण कार्यों में हर स्तर पर गुणवत्ता तथा समयबद्धता का पालन किया जाय। घटिया सामग्री का प्रयोग पाये जाने पर सम्बंधी के विरूद्ध कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने कहा कि जिन अस्पतालों का निर्माण कार्य पूर्ण हो चुका है, उसका लोकार्पण कराने की कार्यवाही पूर्ण की जाय। आयुष मंत्री ने निर्देश दिये दिये कि आयुष चिकित्सालयों के निर्माण कार्यों की प्रगति रिपोर्ट मुख्यालय को अवश्य भेजें। उन्होंने कहा कि वे अपने चिकित्सालयों को माडल अस्पताल बनाएं, जिससे कि आयुष विभाग द्वारा मरीजों को बेहतर से बेहतर उपचार मिल सके। उहोंने कहा कि 50 बेड वाले आयुष चिकित्सालयों में किचन की सुविधा सुनिश्चित किया जाय ताकि मरीजों को पौष्टिक भोजन मिल सके। उन्होंने कहा कि चिकित्सालयों में पानी की भी व्यवस्था नियमित रूप से की जाय। डा0 दयालु ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि वे अपने-अपने जनपदों की चिकित्सालयों की जमीनों की विस्तृत रिपोर्ट उपलब्ध कराएं। उन्होंने कहा कि चिकित्सालयों की खाली जमीनों पर पेड़-पौधे लगाकर उनकी देखरेख की भी व्यवस्था सुनिश्चित करें। उन्होंने हर्बल गार्डेन की स्थापना को प्राथमिकता पर कराने के निर्देश दिये हैं। चिकित्सालयों में साफ-सफाई, स्वच्छ पानी, विद्युत आपूर्ति आदि की व्यवस्था सुचारू रूप से किया जाय। उन्होंने कहा कि चिकित्सालयों में कैमरे व बायो मैट्रिक मशीन को लगवाने की कार्यवाही शीघ्र करायी जाय। आयुष मंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे जन-प्रतिनिधियों को अपने चिकित्सालयों में हैनीमैन दिवस, धनवंतरी दिवस व अन्य कार्यक्रमों में आमंत्रित करें। कैम्प लगाकर जन-प्रतिनिधियों से उद्घाटन भी कराएं। उन्होंने निर्देश दिये कि दवाओं की लैब में जांच की रिपोर्ट शीघ्र मंगवा लें। प्रमुख सचिव आयुष श्रीमती लीना जौहरी ने मंत्री जी को विभाग द्वारा संचालित योजनाओं पर विस्तार से अवगत कराया। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये कि उपयोगिता प्रमाण पत्र समय पर भेजे। इस कार्य में विलम्ब नहीं होना चाहिए। चिकित्सालयों के निर्माण कार्यों की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दिया जाय। उन्होंने मंत्री जी को आश्वस्त किया उनके द्वारा दिये गये आदेशों का अनुपालन कड़ाई से कराया जायेगा। बैठक में उ0प्र0 राज्य आयुष सोसाइटी के निदेशक श्री महेन्द्र वर्मा, निदेशक आयुर्वेद डा0 पी0सी0 सक्सेना, यूनानी निदेशक प्रो0 अब्दुल वाहिद सहित प्रदेश के सभी अधीक्षक, क्षेत्रीय आयुर्वेदिक एवं यूनानी अधिकारी तथा जिला होम्योपैथिक अधिकारी उपस्थित रहे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,