बेटियां रिश्तों को एक धागे में पिरोती हैं : डॉ लीना मिश्र

 


बालिका विद्यालय में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के अंतर्गत संवाद कार्यक्रम का आयोजन





बेटी नहीं है किसी से कम, मिटा दो अपने सारे भ्रम



बेटियां ही है जो रिश्तों को एक धागे में पिरोती और समाज को जोड़ती हैं। वे अपना बलिदान देकर भी परिवार और समाज को बिखरने से बचाती हैं। मान और मूल्यों की रक्षा के लिए बेटियां अपना सब कुछ त्याग देती हैं। यह बताते हुए बालिका विद्यालय इंटरमीडिएट कॉलेज, मोती नगर, लखनऊ की प्रधानाचार्य डॉ लीना मिश्र ने कहा कि सरकार द्वारा चलाए जा रहे मिशन की आज सर्वाधिक प्रासंगिकता और सार्थकता है क्योंकि आज के अत्यधिक विकसित युग में भी बेटियों के प्रति सोच में अपेक्षित विकास नहीं हो पाया है। विद्यालय में आज बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के अंतर्गत संवाद के माध्यम से जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा प्रारंभ की गई जिसमें बालिकाओं को शोषण से बचाना और उन्हें सही, गलत के विषय में अवगत कराना शामिल था। इसका मुख्य उद्देश्य गिरते बालिका लिंगानुपात एवं कन्या भ्रूण हत्या को रोकना तथा बालिकाओं की शिक्षा को बढ़ावा देना है। इस योजना के अंतर्गत शिक्षा के माध्यम से बालिकाओं को सामाजिक एवं आर्थिक रूप से स्वावलंबी बनाने का प्रयास है। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का संदेश प्रबलतापूर्वक फैलाने तथा बालिकाओं के प्रति समाज के लोगों की मानसिकता में सकारात्मक परिवर्तन लाने हेतु विविध गतिविधियों का सघन संचालन बहुत ही आवश्यक है। इसी को ध्यान में रखते हुए आज बालिका विद्यालय में एक संवाद कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें हमसफर महिला युवा सहायता केंद्र के माध्यम से छात्राओं को पॉक्सो अधिनियम, घरेलू हिंसा अधिनियम, कार्यस्थल पर महिलाओं का यौन उत्पीड़न अधिनियम इत्यादि की विस्तृत जानकारी प्रदान की गई। संस्था की प्रोग्राम ऑफिसर्स अर्चना सिंह, प्रियंका और यासमीन ने छात्राओं से संवाद किया तथा उन्हें अपने घर की स्त्रियों और आस पड़ोस की बालिकाओं व स्त्रियों को इस विषय पर जागरूक करने और जानकारी देने के लिए प्रोत्साहित किया। साथ ही उन्हें  प्रेरित किया कि यदि उनके साथ कुछ भी गलत हो तो उन्हें चुप नहीं रहना है बल्कि डटकर उसका सामना करना है। तभी यह उद्देश्य पूरा हो पाएगा। विद्यालय की प्रधानाचार्य डॉ लीना मिश्र ने कार्यक्रम के प्रारंभ में हमसफर सहायता केंद्र तथा उससे संबंधित प्रोग्राम ऑफीसर्स का धन्यवाद दिया कि उन्होंने छात्राओं को इस विषय पर जानकारी देने की सहमति व्यक्त की। इस कार्यक्रम में  उमारानी यादव, पूनम यादव, उत्तरा सिंह, माधवी सिंह, मंजुला यादव, मीनाक्षी गौतम तथा प्रतिभा रानी उपस्थित थीं।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,