अयोध्या धाम के सभी नजदीकी निकायों में भी मुख्य मार्गों पर अयोध्या धाम से सम्बंधित स्वागत गेट, बैनर, होर्डिंग लगाई जाए - ए.के. शर्मा

 



अयोध्या/लखनऊ: 13 जनवरी, 2024


प्रदेश के नगर विकास एवं ऊर्जा मंत्री श्री ए.के. शर्मा ने शनिवार को अयोध्या धाम पहुंचकर आगामी 22 जनवरी, 2024 को अयोध्या धाम में भगवान मर्यादा पुरूषोत्तम श्रीराम मंदिर की प्राण-प्रतिष्ठा के दृष्टिगत नगर विकास द्वारा कराया जा रहें कार्यों की समीक्षा की और हनुमानगढ़ी स्थित पंचवटी रैन बसेरा की व्यवस्था का निरीक्षण भी किया। हनुमानगढ़ी मंदिर में हनुमान जी का आशीर्वाद भी लिया। बैठक में उन्होंने निर्देश दिए कि प्राण प्रतिष्ठा समारोह के दृष्टिगत अयोध्या धाम को आने वाले सभी मार्गों पर उत्कृष्ट सफ़ाई व्यवस्था व सुशोभन का कार्य करवाया जाए। सफ़ाई व्यवस्था में लगाए गए अतिरिक्त कर्मियों को वार्डों में भेजा जाए। व्यापारी बंधुओं से समन्वय स्थापित कर सड़क किनारे व्यापारिक प्रतिष्ठानों पर सजावट व प्रकाश आदि की व्यवस्था किए जाने हेतु प्रेरित किया जाए। अयोध्या धाम के क्षेत्र की फूल, मालाओं, बंदनद्वार से सजावट कराई जाए, जिससे अयोध्या की छवि में निखार आए। उन्होंने सभी पार्षदगण से भी आगामी प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम की दृष्टिगत नगर को साफ सुथरा, स्वच्छ, सुंदर बनाने में अपनी सहभागिता प्रदान करने का आह्वान किया। अयोध्या धाम के सभी नजदीकी निकायों से भी मार्गों पर अयोध्या धाम से सम्बंधित स्वागत गेट, बैनर, होर्डिंग आदि लगाने के निर्देश दिए। अयोध्या धाम के दर्शन व भ्रमण के लिए आने वाले श्रद्धालुओं एवम् पर्यटकों को अयोध्या के पुराने गौरव व संस्कृति के साथ दिव्य और भव्य अयोध्या धाम के दर्शन कराने के लिए तैयारियों में कोई कमी न रहें।



नगर विकास मंत्री श्री ए.के. शर्मा ने कहा कि लोग अयोध्या धाम के आस-पास के रेलवे स्टेशनों, एयरपोर्ट से भी आ सकते हैं तथा अयोध्या धाम के साथ आस-पास के प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों पर भी दर्शन के लिए जा सकते हैं। इसके लिए सभी प्रमुख मार्गों की साफ-सफाई, सुशोभन एवं व्यवस्थापन पर विशेष ध्यान देंगे। कहीं पर भी स्ट्रीट लाइट की खराबी तथा सड़कों पर गढ्ढे न हो। जहां कहीं पर भी जाम लगने की ज्यादा सम्भावना हो, वहां पर भी विशेष ध्यान दिया जाय। सभी नजदीकी निकायों के होटलों के आस-पास भी साफ सफाई रहे।


श्री ए.के. शर्मा ने कहा कि श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए सभी नजदीकी निकाय अयोध्या को जाने वाले मुख्य मार्गों पर विभिन्न भाषाओं में अयोध्या धाम की दूरी, दिशा, को दर्शाने वाले शाइनेज लगाए, जिसमें सम्बंधित निकाय की लोेकेशन और स्वागत संदेश भी लिखा हो। उन्होंने सम्बंधित निकायों को सभी रेलवे स्टेशनों व एयरपोर्ट के अन्दर व इसके आस-पास अयोध्या की दूरी दर्शाने वाले तथा स्वागत के शाइनेज लगाने हेतु निर्देशित किया। साथ ही अयोध्या धाम को आने वाले मुख्य मार्गों पर भी सम्बंधित निकाय नगर विकास की योजनाओं का प्रचार-प्रसार के लिए होर्डिंग्स भी लगाने को कहा। 


नगर विकास मंत्री ने नगर आयुक्त अयोध्या को निर्देश दिये कि अयोध्या धाम के 60 वार्डों के अन्दर की सभी गलियों, सड़कों, नाले व नालियों की आधारभूत सफाई सुनिश्चित कराए, मार्ग प्रकाश व्यवस्था ठीक रहे। सभी  कार्मिकों की वार्डवार ड्यूटी लगाए, गलियों की इन्टरलाकिंग, सड़कों को गड्ढामुक्त कराएं, खुली नालियों को ढके, मलिन बस्तियों की साफ-सफाई और व्यवस्थापन आदि के कार्यों पर भी ध्यान दें। मार्गों के सुन्दरीकरण के लिए बड़े पौधेयुक्त गमले भी रखवाएं। मुख्य स्थानों पर स्मार्ट शाइनेज, डिजिटल शाइनेज लगाए जाएं। श्रद्धालुओं के ठहरने हेतु पर्याप्त रैन बसेरा, शुद्ध पेयजल, पर्याप्त अलाव जलाने की व्यवस्था हो। महिलाओं और पुरूषों के लिए अलग-अलग टॉयलेट बनाये जाएं। शौचालयों में अस्थायीय टॉयलेट, वीआईपी टॉयलेट, पब्लिक टॉयलेट, स्मार्ट टॉयलेट और महिलाओं के लिए पिंक टॉयलेट भी बनाएं। सरयू घाटों पर चेन्जिंग रूम बनाये जाएं। उन्होंने कहा कि बस व रेलवे स्टेशनों, एयरपोर्ट, चौराहों, हाई वे, सड़कों की साफ-सफाई, सुन्दरीकरण पर विशेष ध्यान देंगे। अयोध्या धाम के कोर एरिया में कहीं पर भी व्यवस्था में कमी न रहने पाये। श्रद्धालुओं को अयोध्या धाम तक पहुंचने में आसानी हो, इसके लिए पर्याप्त सिटी बसों की उपलब्धता सुनिश्चित करायी जाय। उन्होंने कहा कि व्यवस्था हेतु सभी क्षेत्रों में पर्याप्त स्वयंसेवक लगाये जाएं। व्यापारिक प्रतिष्ठानों और दुकानदारों का भी सहयोग लें कि वे अपने सामने के भाग पर लाइटिंग कराएं। उन्होंने कहा कि अयोध्या धाम को प्लास्टिक मुक्त बनाने के लिए नो प्लास्टिक बैग जोन विकसित किये जाएं, मन्दिरों व सार्वजनिक स्थलों के आस-पास कपड़ों का बैग उपलब्ध कराया जाय, इसके लिए निकाय क्षेत्र में जागरूकता अभियान भी चलाएं। 


बैठक में नगर आयुक्त, अयोध्या ने बताया कि अयोध्या धाम के कुल 60 वार्डों में विशेष रूप से साफ-सफाई, मार्ग प्रकाश आदि व्यवस्था सुनिश्चित कराने के लिए 10 अपर नगर आयुक्त, संयुक्त नगर आयुक्त, सहायक नगर आयुक्त के पर्याप्त कार्मिकों और सफ़ाई कार्मिकों की ड्यूटी लगायी गयी है। समस्त व्यवस्था के सुचारू संचालन हेतु चार वार्ड में एक सफाई निरीक्षक की तैनाती की गयी है, साथ ही 10 सफाई निरीक्षकों के कार्यों की मानीटरिंग के लिए एक उच्च स्तर के अधिकारी को जिम्मेदारी दी गयी है। सभी क्षेत्रों में ड्रोन के माध्यम से निगरानी की व्यवस्था की गयी है। इन्टीग्रेटेड कमाण्ड कन्ट्रोल सेन्टर को भी पूरी क्षमता के साथ संचालित किया जा रहा है। 


बैठक में निदेशक नगरीय निकाय श्री नितिन बंसल, नगर आयुक्त अयोध्या, अपर नगर आयुक्त श्रीमती ऋतु सुहास तथा सम्बन्धित मंडलों के निकायों के अधिकारी उपस्थित थे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,